Tuesday, July 16, 2024
Google search engine
HomeLatestSolar Eclipse: सोमवती अमावस्या पर सूर्य ग्रहण, पितर होगे खुश

Solar Eclipse: सोमवती अमावस्या पर सूर्य ग्रहण, पितर होगे खुश

Google search engine

Solar Eclipse Update: सोमवती अमावस्या साल में एक या दो बार आती है. इस व्रत को सुहागिन महिलाएं रखती हैं. सोमवती अमावस्या का व्रत शादीशुदा महिलाएं पति की लंबी उम्र के लिए रखती है . सोमवती अमावस्या आठ अप्रैल को पहले नवरात्रे के दिन आ रही है.

भोजपुरी एक्ट्रेस नम्रता मल्ला ने यो यो हनी सिंह के ट्रेडिंग सॉन्ग पर मचाया धमाल, वीडियो देख फैंस रह गए अवाक

ग्रह दोष और पितृ दोष से मिलता है छुटकारा

सोमवती अमावस्या के दिन पूजा करने से परेशानियां दूर कर शुभ फल देने वाली है. वैदिक कैलेंडर के मुताबिक हर हिंदू महीने के आखिरी दिन को अमावस्या के नाम से जानते है. इस दिन साल का पहला सूर्य ग्रहण भी लगने वाला है. सोमवती अमावस्या के दिन पूजा साथ कुछ उपाय करने से विशेष लाभ मिलता है और ग्रह दोष और पितृ दोष से छुटकारा मिलता है.

अगर आपकी कुंडली में पितृ दोष है इसके नकारात्मक प्रभाव को कम करने के लिए सोमवती अमावस्या के दिन नदी में नहाना कर पितरों का तर्पण करना चाहिए ऐसा करन से पितृ प्रसन्न होकर आशीर्वाद देते है. इस दिन शिव परिवार और माता लक्ष्मी को दूध और चावल की खीर का भोग लगाना चाहिए.

मशहूर अभिनेत्री जीनत अमान के बारे में जाने योग्य महत्वपूर्ण बातें

Solar Eclipse Update: मछलियों को आटे की छोटी-छोटी गोलियां बनाकर खिलाए

सोमवती अमावस्या पर स्नान दान और पूजा के बाद मछलियों को आटे की छोटी-छोटी गोलियां बनाकर खिलाए.

इससे परिवार में सकारात्मक ऊर्जा का संचार बढ़ने लगता है. वैदिक पंचांग के अनुसार, चैत्र महीने के

शुक्ल पक्ष की अमावस्या तिथि आठ अप्रैल की सुबह तीन बजकर इकतीस मिनट पर शुरू होगी और इसका समापन

आठ अप्रैल मध्य रात्रि ग्यारह बजकर पचास मिनट पर होगा. अमावस्या का व्रत आठ अप्रैल सोमवार के दिन रखा जाएगा.

करनाल कारागार का वीडियो इंस्टाग्राम पर वायरल, कैदी ने पिक्स के माध्यम से की कॉल

करे ये दान

कपड़ों का दान

जिस प्रकार मनुष्यों को मौसम के अनुसार कपड़ों की जरूरत पड़ती है ठीक उसी प्रकार पितरों को भी

कपड़ों की जरूरत पड़ती है है. सोमवती अमावस्या पर अपने पितरों को खुश करने के लिए कपड़ों का

दान जरुर करें. इस दिन धोती और गमछा दान करना शुभ माना गया है.

चांदी की चीजें

पितर लोक का स्थान चंद्रमा के ऊपरी भाग में होता है, यही कारण है कि पितरों को चांदी से बनी वस्तुओं का दान करने करना चाहिए जिससे पितर प्रसन्न होते हैं.

सफेद चीजों का दान

अमावस्या के दिन अपने पितरों को प्रसन्न करने के लिए चंद्रमा से जुड़ी वस्तुओं दूध और चावल का दान कर करना चाहिए.

काले तिल का दान

इसदिन काले तिल का दान करना अहम बताया गया है. सुबह स्नान कर पितरों का ध्यान करते हुए

Google search engine
RELATED ARTICLES

1 COMMENT

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

- Advertisment -
Google search engine

Most Popular

Recent Comments