Tuesday, July 16, 2024
Google search engine
HomeLatestशाम के समय शिवलिंग पर जल चढ़ाएं या नहीं? क्या है मान्यता

शाम के समय शिवलिंग पर जल चढ़ाएं या नहीं? क्या है मान्यता

Google search engine

Shivalinga: कुछ लोग हर सोमवार को जाकर शिवलिंग पर जल चढ़ा पूजा करते है तो कुछ लोग रोजाना शिवर मंदिर में जाकर शिवलिंग पर जल चढ़ाते है। सोमवार को तो भोले नाथ के मंदिरों में जल चढ़ाने के लिए श्रद्धालुओं की लंबी लंबी कतारे देखी जा सकती है।

मंदिरों में भगवान शिव का गंगा जल, दूध, भाग, धतूरे, दही, आक, शहद आदि से अभिषेक किया जाता है। कुछ लोग शिवलिंग पर शाम के समय भी जल चढ़ाते है क्या वो शुभ है या अशुभ आपकों जरुर जानना चाहिए।

उत्तर दिशा भगवान भोलेनाथ का बायां अंग, जहां माता पार्वती विराजमान हैं

ब्रह्मणों की माने तो  भगवान भोले नाथ की पूजा के दौरान अगर कोई भी भूल या कोई गलती हो जाती है तो पूजा का पूर्ण फल नहीं मिलता.

हर सोमवार को भगवान भोले नाथ की पूजा करने से श्रद्धालुओं की मनोकामनाओं की प्राप्ती के दरवाजे खुल जाते हैं. शिव पुराण के अनुसार, शिवलिंग पर जल चढ़ाने के लिए गलत दिशा में नहीं खड़ा होना चाहिए.

पूर्व और दक्षिण दिशा की ओर मुख करके शिवलिंग पर जल चढ़ाना अशुभ माना गया है. श्रद्धालुओं को हमेशा उत्तर दिशा की ओर मुंह करके ही शिवलिंग पर जल चढ़ना शुभ माना जाता है.

बताया जाता है कि उत्तर दिशा भगवान भोलेनाथ का बायां अंग है, जहां माता पार्वती विराजमान रहती हैं.

मंदिर में शिवलिंग (Shivalinga) पर जल चढ़ाने जाए तो आराम से बैठकर मंत्रोच्चार के साथ जल अर्पित करें. आप अगर खड़े होकर जल अर्पित करते हैं तो इसका फल प्राप्त नहीं होता है. शिवलिंग पर हमेशा तांबे के लोटे से ही जल अर्पित करना चाहिए.

लगने जा रहा है साल का पहला सूर्य ग्रहण; क्या भारत में दिखाई देगा ये ग्रहण?

Shivalinga: शिवलिंग पर किस समय न चढ़ाए जल

शिव पुराण में बताया गया है कि भगवान भोलेनाथ के शिवलिंग पर शाम के समय जल चढ़ाना अशुभ होता है. शिवलिंग पर सुबह 5 बजे से 11 बजे के बीच जल चढ़ाना चाहिए. जब भी भोले बाबा का जलाभिषेक करें तो जल में अन्य कोई भी सामग्री न मिलाएं इससे  पूर्ण फल की प्राप्ति नहीं होती है.

 जल चढ़ाने के लिए न करे शंख का प्रयोग

पौराणिक कथा में लिखा है कि भगवान भोले नाथ शंखचूड़ राक्षस का वध किया था और शंख उसी राक्षस की हड्डियों से बना हुआ है. वही शिवलिंग पर जल चढ़ाते समय यह बात ध्यान रखें कि जलधारा न टूटे वही एक साथ ही जल चढ़ाना अच्छा माना जाता है. जल की धारा टूट जाए तो पूजा का लोगों को पूर्ण फल नहीं मिलता है.

Google search engine
RELATED ARTICLES

8 COMMENTS

  1. […] एक कांच की बोतल में थोड़ा सा दूध, लगभग ए…और इसे जोर से हिलाएं। अगर दूध में झाग बने और काफी देर बाद बैठ जाए तो समझ लें कि दूध में डिटर्जेंट मिलाया गया है। […]

  2. […] हालाँकि, शराब पीना स्वास्थ्य के लिए हा… लेकिन अगर आप इसे दो-चार महीने में एक बार यूं ही और बहुत कम मात्रा में पिएंगे तो यह आपकी सेहत को कोई नुकसान नहीं पहुंचाएगा। हां, अगर आपको पहले से ही स्वास्थ्य संबंधी कोई समस्या है तो शराब से पूरी तरह दूर रहें। […]

  3. […] Disclaimer सलाह सहित यह सामग्री केवल सामान्य…यह किसी भी तरह से योग्य चिकित्सा राय का विकल्प नहीं है। अधिक जानकारी के लिए हमेशा किसी विशेषज्ञ या अपने डॉक्टर से परामर्श लें। एचआर ब्रेकिंग न्यूज इस जानकारी के लिए जिम्मेदारी का दावा नहीं करता है। […]

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

- Advertisment -
Google search engine

Most Popular

Recent Comments