Tuesday, July 16, 2024
Google search engine
HomeLatestCab Drivers News: ओला-उबर यात्रियों की बढ़ेंगी मुश्किलें, तेलंगाना में कैब ड्राइवरों...

Cab Drivers News: ओला-उबर यात्रियों की बढ़ेंगी मुश्किलें, तेलंगाना में कैब ड्राइवरों ने शुरू किया ‘नो एसी’ अभियान

Google search engine

‘No AC’ campaign: गर्मी के मौसम में कारें अंदर से भट्टी की तरह तपने लगती हैं। ऐसे में एसी राहत बनकर आता है। लेकिन जरा सोचिए अगर आप कैब में बैठे हों और ड्राइवर इस तरह गाड़ी चलाने से मना कर दे तो आपकी क्या हालत होगी. दरअसल, तेलंगाना की राजधानी हैदराबाद में कैब ड्राइवर यूनियन ने इस गर्मी के मौसम में एसी न चलाने का फैसला किया है। इसमें ओला, उबर और रैपिडो जैसे ऑनलाइन टैक्सी प्लेटफॉर्म के ड्राइवर शामिल हैं।

यूनियन का कहना है कि एसी चालू रखने से कार का माइलेज कम हो जाता है और चलाने की लागत बढ़ जाती है। इससे गर्मी में वाहन चालकों को भारी नुकसान का सामना करना पड़ता है। ऐसे में कुछ कैब ड्राइवर बिना एसी चालू किए गाड़ी चलाते हैं ताकि वे पैसे बचा सकें। इससे कैब बुक करने वाले ग्राहकों को परेशानी होती है।

‘No AC’ campaign: कम बचत से टैक्सी ड्राइवर परेशान

दैनिक भास्कर की एक रिपोर्ट के मुताबिक, कैब ड्राइवर मुरली रेड्डी ने बताया कि एसी पर कैब चलाने का

खर्च 16-18 रुपये प्रति किमी है. उबर, ओला और रैपिड कमीशन लेती हैं, जिसके बाद उन्हें प्रति किमी

मात्र 10 रुपये मिलते हैं। रेड्डी ने कहा कि 16 घंटे काम करने के बाद भी सिर्फ 500 से 800 रुपये ही

बचाए जा सकते हैं. इसमें कार की मेंटेनेंस का खर्च भी शामिल होता है। उन्होंने कंपनियों

(ओला, उबर और रैपिडो आदि) से एसी कैब का किराया बढ़ाने की मांग की है. तेलंगाना गिग एंड

प्लेटफॉर्म वर्कर्स यूनियन (टीजीपीडब्ल्यूयू) ने 8 अप्रैल को ‘नो एसी’ अभियान की घोषणा की थी।

टैक्सी यूनियन ने ट्विटर पर इसकी घोषणा करते हुए लिखा, ”@TGPWU ‘नो एसी’ अभियान

शुरू कर रहा है। उबर, ओला और रैपिडो ऐप पर काम करने वाले हम ड्राइवर प्रति किलोमीटर

किराया कम होने के कारण कैब में एसी चालू नहीं कर पाते हैं। “हमारी कैब को एसी के साथ

चलाने की लागत 16-18 रुपये प्रति किलोमीटर है।”

गर्मी में यात्रियों की मुश्किलें बढ़ेंगी

आपको बता दें कि हैदराबाद उन शहरों में से एक है जहां गर्मी के दौरान पारा सबसे ज्यादा रहता है।

गर्मियों में यहां का तापमान 43 डिग्री को पार कर जाता है। ऐसे में टैक्सी चालकों का एसी का

इस्तेमाल न करने का फैसला हजारों ग्राहकों के लिए परेशानी का कारण बन सकता है. हालांकि,

टैक्सी ड्राइवरों का कहना है कि वे ग्राहक से टिप मिलने की शर्त पर ही एसी चालू करेंगे।

Google search engine
RELATED ARTICLES

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

- Advertisment -
Google search engine

Most Popular

Recent Comments