Monday, July 22, 2024
Google search engine
HomeLatestPolitics News: मंदिर के बगल में मस्जिद और चंद कदम की दूरी...

Politics News: मंदिर के बगल में मस्जिद और चंद कदम की दूरी पर चर्च, एक ऐसी तस्वीर जो पूरे केरल की कहानी करती है बयां

Google search engine

Kerala Lok Sabha elections: लोकसभा चुनाव के दूसरे चरण में केरल की 20 सीटों पर 26 अप्रैल को मतदान होगा. केरल में मुख्य मुकाबला एलडीएफ और यूडीएफ के बीच है. बीजेपी ने भी मुकाबले को त्रिकोणीय बनाने की पूरी कोशिश की है. वोटिंग से पहले जानिए क्या है केरल की ग्राउंड रिपोर्ट. ‘नवभारत टाइम्स’ ने त्रिवेन्द्रम में चुनावी माहौल को भांप लिया।

तिरुवनंतपुरम का पलायम क्षेत्र। यहां कोनेमारा मार्केट के ठीक सामने से जो दिखता है, वह एक तरह से पूरे केरल की कहानी बयां करता है। बाज़ार के ठीक सामने, सड़क के दूसरी ओर भगवान गणेश का मंदिर और उसके बगल में एक मस्जिद है। यदि आप कुछ कदम आगे बढ़ेंगे तो आपको एक चर्च मिलेगा। यही केरल की राजनीतिक जनसांख्यिकी भी है.

जिसे लेकर विशेषज्ञों का कहना है कि राजनीतिक जनसांख्यिकी लेफ्ट या कांग्रेस के पक्ष में नजर आ रही है और इससे बीजेपी को कोई फायदा नहीं होता. यही वजह है कि जानकारों का मानना है कि केरल की कुल 20 लोकसभा सीटों में से बीजेपी सिर्फ दो सीटों पर मुख्य मुकाबले में है. कुछ जानकार इसे तीन सीटें बता रहे हैं लेकिन कुल मिलाकर बीजेपी अभी भी यहां की ज्यादातर सीटों पर अपनी जमीन तलाश रही है.

Kerala Lok Sabha elections: समीना की आँखें चमक उठीं

इसी सड़क पर समीना अपनी सहेलियों के साथ मिली. वह एक एनजीओ प्रोजेक्ट पर काम कर रही हैं और पहली बार लोकसभा चुनाव में वोट करेंगी. जब उन्होंने मंदिर और मस्जिद की बात शुरू की तो उनकी आंखें गर्व से चमकने लगीं. चेहरे पर चौड़ी मुस्कान के साथ समीना ने कहा कि यही केरल की खूबसूरती है. यहां कोई आपको धर्म के आधार पर नहीं आंकता. वह कहती हैं कि देश के अलग-अलग हिस्सों से जिस तरह की खबरें आ रही हैं,

उसे देखकर लगता है कि मैं केरल छोड़कर किसी दूसरे राज्य, खासकर उत्तर के किसी राज्य में नहीं जाऊंगी. वह कहती हैं कि हम एक धर्मनिरपेक्ष राज्य चाहते हैं. चुनाव पर चर्चा करने पर वह कहती हैं कि वैसे तो मैं कम्युनिस्ट हूं, लेकिन इस बार कांग्रेस को वोट दूंगी. कारण पूछने पर वह हंसती हैं और कहती हैं कि कांग्रेस के नेता कहते रहते हैं कि सरकार ने ये नहीं किया, वो नहीं किया तो उन्हें भी मौका देना चाहिए और देखते हैं क्या करते हैं. बीजेपी के बारे में पूछे जाने पर वह कहती हैं कि यहां बहुत से लोग सोचते हैं कि अगर बीजेपी आएगी तो माहौल खराब हो जाएगा, क्योंकि जिस तरह की सूचनाएं दूसरी जगहों से आती हैं, उन्हें देखकर उन्हें डर लगता है.

एकता को कोई नहीं तोड़ सकता

कोनेमारा मार्केट में एक कपड़े की दुकान के मालिक से बात हुई. गणेश मंदिर के बारे में उन्होंने बताया कि यह बहुत पुराना मंदिर है और कुछ हफ्ते पहले ही इसका जीर्णोद्धार कराया गया था. उस कार्यक्रम में पड़ोस की मस्जिद के इमाम और सामने वाले चर्च के फादर भी शामिल हुए थे.

फिर बताया कि पहले मैं बेंगलुरु में था, मुझे वहां घर ढूंढने में काफी दिक्कत हुई,

कई लोगों ने मुझे घर देने से मना कर दिया था। एक बार उड़ीसा में मुझे एक रेस्तरां

में जाने से रोक दिया गया। फिर कुछ देर की खामोशी के बाद वह कहते हैं…

इसीलिए तो मैं मुसलमान हूं। उन्होंने आगे कहा कि लेकिन केरल में ऐसा नहीं है.

मुझे गर्व है कि हम सब यहां एक साथ रहते हैं और हमारी एकता को कोई नहीं तोड़ सकता.

चुनाव के हिसाब से वोटिंग होती है

केरल सेंट्रल यूनिवर्सिटी के पूर्व वीसी और वरिष्ठ राजनीतिक वैज्ञानिक जी. गोपाकुमार

केरल की राजनीति और लोकसभा चुनाव के बारे में कहते हैं कि यहां की राजनीतिक

जनसांख्यिकी यूडीएफ के पक्ष में है। उनका कहना है कि यहां के लोग विधानसभा

चुनाव और लोकसभा चुनाव में अंतर जानते हैं और उसी तरह वोट करते हैं.

विधानसभा और पंचायत चुनाव में लोग स्थानीय पार्टी पर भरोसा करते हैं.

लेकिन लोकसभा चुनाव में देखते हैं कि राष्ट्रीय स्तर पर कौन बेहतर है.

उनका कहना है कि केरल में 27 फीसदी मुस्लिम और 18 फीसदी ईसाई हैं.

यह एक बड़ा वोट बैंक है. लेफ्ट और कांग्रेस इन्हें अपने पक्ष में करने की कोशिश कर रहे हैं.

उनका कहना है कि वामपंथियों ने सीएए को ज्यादा मुद्दा बनाया लेकिन कांग्रेस इसका फायदा

उठा सकती है क्योंकि वामपंथियों के पास राष्ट्रीय स्तर पर कोई ताकत नहीं है और ‘मोदी डर’

अल्पसंख्यकों, खासकर मुसलमानों को एकमुश्त वोट देने पर मजबूर करता है. उनका कहना

है कि ईसाई ज्यादातर कांग्रेस के साथ रहे हैं लेकिन इस बार कुछ समूहों ने मोदी का समर्थन

करने की भी बात कही, लेकिन फिर मणिपुर मुद्दे के बाद कई लोगों के मन में संदेह आया

कि क्या बीजेपी अल्पसंख्यकों की मदद करेगी?

Google search engine
RELATED ARTICLES

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

- Advertisment -
Google search engine

Most Popular

Recent Comments