Tuesday, July 16, 2024
Google search engine
HomeLatestनवीन जयहिंद की अपील पर "बेरोजगारों की बारात" में पहुंचे हजारों युवा

नवीन जयहिंद की अपील पर “बेरोजगारों की बारात” में पहुंचे हजारों युवा

Google search engine

Jai Hind: जयहिन्द सेना प्रमुख डॉ. नवीन जयहिन्द ने एक बार फिर हजारों बेरोजगारों के साथ “बेरोजगारों का जुलूस” निकाला। इससे पहले रोहतक और जींद में भी ‘बेरोजगारों का जुलूस’ निकाला जा चुका है. इस बार उन्होंने करनाल में बेरोजगारों के साथ जुलूस निकाला और सरकार को अपना वादा याद दिलाया. यह जुलूस करनाल के पुराने बस स्टैंड से शुरू हुआ और पूरे शहर से होते हुए डीसी ऑफिस पहुंचा जहां नवीन जयहिंद और बेरोजगारों ने मुख्यमंत्री नायब सिंह सैनी और पूर्व मुख्यमंत्री के नाम युवाओं की मुख्य मांगों का ज्ञापन सौंपा मनोहर लाल खटटर.

पत्रकारों के सवालों के जवाब में कही ये बात

जयहिंद ने कहा कि आज वह बेरोजगारों का जुलूस इसलिए निकाल रहे हैं क्योंकि प्रदेश में कोई भी भर्ती पूरी नहीं हो रही है. टीजीटी से लेकर सीईटी तक सभी भर्तियों पर कोर्ट में केस चल रहे हैं. आज ये सभी बेरोजगार बटेउ सरकार से अपना वादा पूरा करने आये हैं। जब पूर्व मुख्यमंत्री मनोहर लाल खट्टर ने कहा था कि 50 हजार भर्तियां की जाएंगी और ग्रुप डी से पहले ग्रुप सी की भर्ती की जाएगी। रांडा पेंशन शुरू करने के लिए वे सरकार का शुक्रिया अदा करते हैं, लेकिन सभी युवा रांडा नहीं रह सकते और न ही सभी रांडा मुख्यमंत्री बन सकते हैं। या गृह मंत्री. पिछले 6 साल से कोई भी भर्ती पूरी नहीं हुई है. लड़के और लड़कियाँ शादी के लिए वयस्क हो रहे हैं। उनके बूढ़े माता-पिता उनकी शादी और नौकरी को लेकर चिंतित हैं।

Jai Hind: जयहिंद ने आगे कहा कि

आज प्रदेश के हर जिले से हजारों की संख्या में पढ़े-लिखे युवा करनाल आये हैं।

कोई टीजीटी, कोई सीईटी ग्रुप 56-57, कोई ग्रुप डी, फायर ऑपरेटर, कोई सामाजिक आर्थिक अंक तो कोई हरियाणा पुलिस भर्ती की समस्या लेकर आया है। इन सभी भर्तियों के खिलाफ कोर्ट में केस चल रहे हैं.

इन भर्तियों को लेकर 22 अप्रैल को ग्रुप 56-57 और 23 अप्रैल को सामाजिक-आर्थिक को लेकर कोर्ट में सुनवाई है। लेकिन जब इन तारीखों पर जाने का वक्त आता है

तो एजी साहब बीमार हो जाते हैं. वे एजी साहब को घी, दूध, काजू-बादाम भेजने को तैयार हैं.

उनकी सरकार से बस इतनी ही अपील है कि कोर्ट में दूसरा वकील भेजकर

इन सभी भर्तियों को जल्द से जल्द कोर्ट में चल रहे मामलों से बाहर निकाला जाए,

मजबूत पैरवी से इनका निपटारा कराया जाए और बेरोजगारों को नौकरी दी जाए।

वही जयहिन्द आ गया

घी, पेठे की सब्जी, पनीर, मसाले, आटा, सरसों का तेल, चावल, चना आदि सभी सामग्री के साथ

उन्होंने कहा कि भर्तियां पूरी करने के बाद उन्होंने पूर्व मुख्यमंत्री को देसी घी का नाम भी दिया था.

भंडारा लगाया गया। मौजूदा मुख्यमंत्री नायब सिंह सैनी की भी यही पेशकश है.

उन्हें भर्ती पूरी कर भंडारे का आयोजन करना चाहिए।

उन्हें अपनी सरकार के पूर्व मुख्यमंत्री का वादा पूरा करना होगा.

Jai Hind: पिछले कई दिनों से

प्रदेश के सैकड़ों युवा नवीन जयहिंद को बुला रहे हैं उनके टेंट में पहुंचकर सरकार पर दबाव बना रहे हैं

और पिछली लंबित भर्तियों को पूरा करने की अपील कर रहे हैं. जिसके चलते जय हिंद ने एक बार फिर

से रोहतक की बजाय करनाल की सड़कों पर बेरोजगारों के लिए “बेरोजगारों का जुलूस” निकालने का

फैसला किया है। जयहिंद ने सरकार को अल्टीमेटम भी दिया और कहा कि वह इन बेरोजगारों के हक

की लड़ाई के लिए हर संघर्ष के लिए तैयार हैं. सरकार को इन सभी भर्तियों की मजबूत पैरवी कर 4 जून

तक इन्हें कोर्ट से निकालकर पूरा करना चाहिए। अगर उन्हें सरकार की मंशा ठीक नहीं लगती है तो वे इन

बेरोजगारों के साथ हर मोर्चे पर सरकार से लड़ने को तैयार हैं. बेरोजगारों के लिए महाभारत युद्ध होगा। वह

तन-मन-धन से इन बेरोजगारों के साथ हैं।

मुख्य बातें–

1.करनाल की सड़कों पर नवीन जयहिंद के नेतृत्व में निकला “बेरोजगारों का जुलूस”
2. करनाल की सड़कों पर नाचते दिखे हजारों युवा, मुख्य दूल्हा बने सोनू मलिक
3.करनाल में चिल्ड्रेन बैंक के पैसे खर्च कर निकाली गई बारात, घोड़ी और रथ बने आकर्षण का केंद्र
4.जय हिंद के हाथों भंडारे का सामान जैसे घी, पेठा सब्जी, पनीर, मसाले, आटा, सरसों का तेल, चावल, छोले और अन्य सभी सामग्री

हमारा किसी भी राजनीतिक दल से कोई लेना-देना नहीं – जयहिंद*

जब जय हिंद से पत्रकारों ने पूछा कि वह किसका समर्थन करते हैं तो उन्होंने तपाक से जवाब दिया कि वह

बेरोजगारों का समर्थन करते हैं. ये बेरोजगार लोग न तो किसी राजनीतिक दल से हैं और न ही चुनाव लड़ना

चाहते हैं. सरकार को अपना वादा पूरा करना चाहिए और इन्हें कोर्ट केस से निकालकर भर्ती पूरी करनी

चाहिए। उनकी कोई नई मांग नहीं है. पिछले 2 साल से इन युवाओं ने इन भर्तियों को कोर्ट से छुड़ाने के

लिए लाखों रुपये खर्च किए हैं.

Jai Hind:बेरोजगारों के नाम पर राजनीति कर रहा विपक्ष- जयहिंद

जय हिंद ने विपक्ष को भी घेरा और कहा कि आज जब इन युवाओं को सहारे की सबसे ज्यादा जरूरत है.

लोगों को आवाज उठाने की जरूरत है तो विपक्ष सड़कों से गायब है. विपक्षी नेता सिर्फ वोट की राजनीति

कर रहे हैं. उनके हक के लिए आवाज उठाने वाले नेता एसी में बैठकर वोट गिन रहे हैं।

Google search engine
RELATED ARTICLES

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

- Advertisment -
Google search engine

Most Popular

Recent Comments