Wednesday, July 24, 2024
Google search engine
HomeLatestमहंगे फिल्टर का जनक है ये आयुर्वेदिक मटका! बस मिला दें ये...

महंगे फिल्टर का जनक है ये आयुर्वेदिक मटका! बस मिला दें ये 3 चीजें; पानी बन जाएगा अमृत

Google search engine

Ayurvedic Matka: मानव शरीर में 75 प्रतिशत जल होता है। पानी जोड़ों को चिकनाई देता है, आपकी रीढ़ और अन्य संवेदनशील ऊतकों की रक्षा करता है, और पसीने और मल त्याग के माध्यम से आपके शरीर से अपशिष्ट पदार्थ को बाहर निकालता है।

स्वस्थ रहने के लिए साफ और स्वच्छ पानी पीना जरूरी है। पानी में वे सभी खनिज और विटामिन होते हैं जो शरीर के बेहतर कामकाज के लिए आवश्यक होते हैं। अगर आप ऐसा पानी पी रहे हैं जिसमें खनिज और विटामिन की कमी है तो यह स्वास्थ्य के लिए खतरा हो सकता है।

साफ और स्वच्छ पानी को शायद

इसलिए अमृत कहा जाता है क्योंकि इसमें सभी आवश्यक खनिज मौजूद होते हैं। शहर में रहने वाले लोगों को साफ पानी नहीं मिलता है. अगर आपको साफ पानी नहीं मिल पा रहा है तो आप अपने घर पर ही अमृत समान पानी बना सकते हैं। देश के जाने-माने आयुर्वेद डॉक्टर दीपक कुमार आपको ये तरीका बता रहे हैं.

आपको किस चीज़ की जरूरत है

Ayurvedic Matka: साधारण जल को अमृत में कैसे बदलें?

  • आप बाजार जाएं और जीरो टीडीएस वाला पानी खरीदें
  • इस पानी को किसी बर्तन या पात्र में भर लें
  • इस जल में 3 सोने के सिक्के, एक चांदी का सिक्का और एक तांबे का सिक्का डालें।
  • इस पानी को 12 घंटे तक बंद करके रखें
  • 12 घंटे बाद पानी निकाल दें

पानी का सेवन कैसे करें

दिन भर में जब भी आपको प्यास लगे तो आपको यह पेय पदार्थ ही पीना चाहिए। इस पानी को पीने से आप एक हफ्ते के अंदर ही शरीर के अंदर बेहद चमत्कारी असर देख सकते हैं।

Ayurvedic Matka:शरीर की गंदगी दूर हो जाएगी

डॉक्टर ने बताया कि इस पानी के नियमित सेवन से शरीर से गंदगी और विषाक्त पदार्थ बाहर निकलने लगते हैं.

भूख बढ़ने लगती है और साथ ही शरीर के सभी अंग सक्रिय होने लगते हैं।

अस्वीकरण: यह लेख केवल सामान्य जानकारी के लिए है। यह किसी भी तरह से किसी दवा या इलाज का विकल्प नहीं हो सकता। अधिक जानकारी के लिए हमेशा अपने डॉक्टर से परामर्श लें।

Google search engine
RELATED ARTICLES

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

- Advertisment -
Google search engine

Most Popular

Recent Comments